मजदूर तबके पर फासीवादी हमला

-- क्लिफ्टन डी. रोजारियो

आप फासीवाद के खिलाफ सम्मेलन में इसलिये नही जाते कि फासीवाद की पक्की परिभाषा तय करें, बल्कि यह समझने जाते हैं कि विभिन्न तबकों के लिए इसके क्या मायने हैं, उनके अस्तित्व पर फासीवाद का क्या असर पड़ा है, और कितने कारगर तरीके से वे इसका मुकाबला कर रहे हैं. – के. बालगोपाल [1]

[ह्यूमन राइट्स फोरम (एचआरएफ) द्वारा 9 अक्टूबर 2022 को हैदराबाद में आयोजित 13वीं बालगोपाल मेमोरियल मीटिंग में दिए गए भाषण से]

भारतीय फासीवाद की शुरूआती यूरोपियन कड़ियां

- आकाश भट्टाचार्य

फासीवाद का स्थानिक भूगोल

बेनिटो मुसोलिनी और उनकी नेशनल फासिस्ट पार्टी (पीएनएफ) ने अक्टूबर 1922 में रोम में एक मार्च निकाला था. इस मार्च के जरिये मुसोलिनी ने इटली की सत्ता पर काबिज होकर दुनिया की पहली स्व-घोषित फासीवादी सरकार का आगाज किया था जिसके दूरगामी परिणाम हुए. इतालवी फासीवाद ने एडॉल्फ हिटलर के हौसले को बढ़ाया और दोनों फासीवादी लीडरों ने दुनिया में तबाही मचा दी, जंग छेड़ा और खासतौर से यहूदियों और कम्युनिस्टों को निशाना बनाया.

सभी राजनीतिक कैदियों को रिहा करो !

[विगत 28 सितंबर 2022 को, शहीदे आजम भगत सिंह की 115वीं जयंती के मौके पर, आइलाज ‘ऑल इंडिया लॉयर्स एसोसिएशन फॉर जस्टिस’ ने मोदी राज के दौरान अलग-अलग झूठे मुकदमों में देश के विभिन्न जेलों में बंद सभी राजनीतिक कैदियों को रिहा करने की मांग पर राष्ट्रीय प्रतिवाद दिवस का पालन किया. राष्ट्रीय प्रतिवाद दिवस के लिए आइलाज ने यह पर्चा जारी किया था.]

सतारा: ब्राह्मण-विरोधी आन्दोलन से राष्ट्रवाद तक

- गेल ओम्बेट

समानांतर सरकार का गठन: अगस्त 1942 से लेकर जून 1943 तक

9 अगस्त: ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के अधिवेशन में प्रसिद्ध ‘भारत छोड़ो’ प्रस्ताव ग्रहण किये जाने के चंद घंटों बाद ही औपनिवेशिक राज्य तंत्र राष्ट्रवादी आन्दोलन के नेताओं पर टूट पड़ा. लेकिन शीर्षस्थ नेताओं की गिरफ्तारी से भारत में सबसे बड़ा जन विद्रोह उभर पड़ा.

मिर्जापुर में दलितों-आदिवासियों की बुलंद आवाज हैं जीरा भारती

- कुसुम वर्मा

(उत्तर प्रदेश में मिर्जापुर जिले के मड़िहान विधानसभा  में पहाड़ी पर चढ़ते हुए पटेहरा गांव है जहां तमाम मिट्टी के कच्चे घरो में से एक घर जीरा भारती का है जो पिछले दो दशको से दलितों और आदिवासियों के हक में आवाज उठा रही हैं. इस संघर्ष में कई बार उन्हें गांव के दबंगो की मार झेलनी पड़ी है और प्रशासन द्वारा क़ई फर्जी मुकदमे भी उनके ऊपर लादे गए हैं. इस विधानसभा चुनाव में जीरा भारती अपने मड़िहान विधानसभा से भाकपा(माले) से उम्मीदवार हैं. उनके चुनावी प्रचार के दौरान उनके साथ बातचीत और अनुभव पर एक रिपोर्ट).

सावरकर-गोलवलकर-गोडसे की संतानों को सत्ता से निकाल बाहर करें

जन-संहार और लोकतंत्र की हत्या से भारत को बचाने के लिए
सावरकर-गोलवलकर-गोडसे की संतानों को सत्ता से निकाल बाहर करें

 – अरिंदम सेन

सतारा की ‘प्रति (समानांतर) सरकार’

- गेल ओम्बेट

समकालीन लोकयुद्ध आजादी के 75वें वर्षगांठ के मौके पर (स्व.) गेल ओम्बेट का यह लेख सिलसिलेवार ढंग से प्रकाशित कर रहा है. पहले हम गेल के जीवन साथी और कार्यकर्ता भरत पाटंकर द्वारा लिखित संक्षिप्त भूमिका पेश कर रहे हैं - सं