अखिल भारतीय किसान महासभा ने किसान ट्रैक्टर परेड को ऐतिहासिक बताया


अखिल भारतीय किसान महासभा ने दिल्ली में आज हुई किसान ट्रैक्टर परेड को ऐतिहासिक बताते हुए तीन कृषि कानूनों की वापसी और एमएसपी की कानूनी बाध्यता का कानून लाने तक आंदोलन जारी रखने का आह्वान किया है. दिल्ली के नागरिकों द्वारा किसानों के इस ट्रैक्टर परेड का दिल खोल कर स्वागत करना दिखाता है कि इस आंदोलन को न सिर्फ किसानों मजदूरों का समर्थन प्राप्त है, बल्कि शहरी मध्यवर्ग की भी किसानों के इस आंदोलन के साथ गहरी सहानुभूति जुड़ी हुई है.

ट्रैक्टर परेड की सफलता पर किसानों को बधाई! आन्दोलन पर दमन के लिए मोदी राज की भर्त्सना हो!


देश के सभी कोने कोने से आये लाखों किसानों ने अश्रु गैस के गोले, पुलिसिया लाठीचार्ज समेत भारी दमन के बीच अपने ट्रैक्टरों पर सवार हो शान से तिरंगा लहराते हुए सड़कों पर आ कर भारत गणराज्य की लोकतांत्रिक भावना का उत्सव मनाया है. इस हिम्मत और दृढ़ निश्चय के लिए देश के किसान बधाई के पात्र हैं. हम पुलिस दमन की भर्त्सना करते हैं जिसमें एक किसान की जान चली गई.

टीईटी अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज की निंदा


20 जनवरी 2021, भाकपा(माले) के राज्य सचिव कामरेड कुणाल ने गर्दनीबाग धरनास्थल पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे टीईटी अभ्यर्थियों पर भाजपा-जदयू सरकार द्वारा बर्बर लाठीचार्ज की घटना की कड़ी निंदा की है. उन्होंने कहा कि अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र देकर स्कूलों में योगदान की गारंटी करवाने की बजाए सरकार लाठी-गोली की भाषा बोल रही है. हम सबको याद है कि विगत विधानसभा चुनाव में जब एनडीए गठबंधन को अपनी हार सुनिश्चित दिखलाई पड़ने लगी थी, तो उसने 19 लाख रोजगार देने का वादा किया था. लेकिन सत्ता पाते ही उस वादे को भुला कर पहले की ही तरह दमन का रूख अख्तियार कर लिया है.

रीगा चीनी मिल को चालू करने मांग : मुख्यमंत्री व गन्ना मंत्री को लिखा पत्र


भाकपा(माले) के बिहार राज्य सचिव कुणाल ने सीतामढ़ी जिले में अवस्थित रीगा चीनी मिल को अविलंब चालू कराने की मांग बिहार सरकार से की है. उन्होंने कहा कि जनवरी का महीना बीत रहा है लेकिन अभी तक पेराई सत्र आरंभ नहीं हो सका है. मिल बंद पड़ा है. इसके कारण इलाके के करीब 40 हजार ईख काश्तकार और करीब 700 कामगारों के सामने रोजी-रोटी की समस्या खड़ी हो गई है.

किसान आन्दोलन के बारे में सर्वाेच्च न्यायालय के फैसले पर संयुक्त किसान मोर्चा और भाकपा(माले) के बयान


जिन तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग किसान कर रहे हैं उन पर सर्वाेच्च न्यायालय ने स्थगन आदेश दिया है, और साथ ही केन्द्र सरकार एवं किसानों के बीच वार्ता करने के लिए एक चार सदस्यीय पैनल की घोषणा की है.

नए विरोध कार्यक्रमों की घोषणा


एआईकेएससीसी ने विरोध कर रहे किसानों पर बढ़ रहे दमन की निन्दा की और व्यापक व बड़े विरोधों की चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार किसान विरोधी, संवेदनहीन तथा अलोकतांत्रिक है. इससे लोगों में गुस्सा तेजी से भड़क रहा है और अगर यह नहीं रुका तो आन्दोलन और तेज कर दिया जाएगा. कल जो किसान शाहजहांपुर से शांतिपूर्वक ढंग से दिल्ली की ओर आ रहे थे उन्हें आगे बढ़ने से रेवाड़ी में रोका गया, उन पर आंसू गैस के गोले दागे गये और मिर्च का पाउडर छिड़का गया. इससे कई किसानों की आंखों व चमड़े में जलन की शिकायत बन गयी है.

केंद्रीय कैबिनेट का निर्णय खाद्य असुरक्षा को बढ़ाने वाला


पटना, 31 दिसंबर 2020, अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय महासचिव व एआईकेएससीसी के वर्किंग ग्रुप के सदस्य का. राजाराम सिंह ने मोदी सरकार के केंद्रीय कैबिनेट के उस निर्णय को खाद्य असुरक्षा, भुखमरी को बढ़ाने वाला दुर्भाग्यपूर्ण निर्णय बताया है जिसमें गन्ना के अलावा चावल, गेहूं, मक्का, जौ और ज्वार से इथेनाॅल बनाने को प्रोत्साहित करने का फैसला लिया गया है.

भजनपुर (अररिया) के जनसंहार पीड़ितों का दमन बंद हो


भाकपा(माले) राज्य सचिव का. कुणाल ने कहा है कि अररिया जिले के फारबिसगंज प्रखंड के भजनपुर गांव में 2011 में घटित बर्बर पुलिस गोलीकांड के पीड़ितों को अभी तक न्याय तो नहीं ही मिला, लेकिन प्रशासन की ओर से ग्रामीणों पर किए गए मुकदमे में उन्हें लगातार प्रताड़ित किया जा रहा है और हाल-फिलहाल में प्रशासन कुर्की जब्ती का आदेश निकाल चुका है.

हाथरस में मनुवादी ताकतों द्वारा दलित परिवार पर किये जा रहे


जातिगत क्रूर अत्याचार पर ऐपवा का बयान

एक 19 साल की दलित लड़की के साथ वर्चस्वशाली ठाकुर जाति के चार व्यक्तियों ने सामुहिक बलात्कार किया, जिससे बुरी तरह से घायल लड़की ने 30 सितंबर को दम तोड़ दिया. उस लड़की ने अपने बयान में कहा है कि संदीप, रवि, लवकुश, रामू ने उस पर हमला कर गला घोंट कर मारने का प्रयास किया – जिससे उसकी जीभ बुरी तरह से कट गयी और रीढ़ की हड्डी में प्रफैक्चर हो गया.