किसान विरोधी तीनो कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर राजधानी दिल्ली में दो महीनों से अधिक चल रहे किसान आंदोलन को बदनाम करने की सरकारी साजिशों और आंदोलन को लाठी गोली के बल पर दबाने की कोशिशों के खिलाफ भाकपा माले ने बगोदर के लुकुइया, तुकतुको, नावाडीह, पैसरा बाराटोला समेत अन्य गांवों में ग्राम सभाएं आयोजित की और देश की रीढ़ खेती-किसानी को काॅरपोरेटों के हाथों जाने से बचाने के लिए आगे आने की जरूरत पर बल दिया गया. किसान आंदोलन पर दमन के खिलाफ विरोध के प्रतीक काला झंडा फहराया गया और तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग दोहराई गई.

कार्यक्रम का नेतृत्व भाकपा(माले) के प्रखंड सचिव पवन महतो, जिला परिषद सदस्य पूनम महतो, खूबलाल महतो, तेजनारायण पासवान, उमेश महतो, भुनेश्वर महतो, राजकुमार दास, पूरन महतो, राजू कुमार महतो, हेमलाल महतो समेत अन्य ने किया.