दिल्ली में किसानों एवं पत्रकारों पर मुकदमा करने एवं जेल भेजने के खिलाफ विगत 3 फरवरी 2021 को ताजपुर (समस्तीपुर) में अखिल भारतीय किसान महासभा के कार्यकर्ताओं ने विरोध मार्च निकाल कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला जलाया. अपने-अपने हाथों में नारे लिखे तख्तियां व झंडे लिए किसान कार्यकर्ता स्थानीय सब्जी मंडी में जमा हुए और वहां से विरोध मार्च निकालकर मंडी का चक्कर लगाते हुए एनएच-28 स्थित मंडी चौक पहुंचे. वहां किसान नेता ब्रहमदेव प्रसाद सिंह की अध्यक्षता में आयोजित सभा को भाकपा(माले) के प्रखंड सचिव सुरेन्द्र प्रसाद सिंह, राजदेव प्रसाद सिंह, शंकर सिंह, रवींद्र प्रसाद सिंह, मनोज कुमार सिंह, मोतीलाल सिंह, वासुदेव सिंह, संजीव राय, राजाराम राय, बासुदेव राय, ललन दास, आदि नेताओं ने संबोधित किया.

वक्ताओं ने किसान विरोधी तीनों कृषि कानून लाने वाली मोदी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि देश में कुषि पर करीब 77% लोग निर्भर हैं. मोदी सरकार एक सोची-समझी साजिश के तहत कृषि को भी अडानी-अंबानी के हवाले करना चाहती है. आजाद देश के किसानों को फिर से गुलाम बनाने की साजिश चल रही है. अध्यक्षीय भाषण में अखिल भारतीय किसान महासभा के प्रखण्ड अध्यक्ष ब्रहमदेव प्रसाद सिंह ने देशव्यापी अभियान के तहत 6 फरवरी को ताजपुर के गांधी चौक पर एनएच-28 के चक्का जाम में किसानों व आम लोगों से व्यापक भागीदारी करने की अपील की.