मिर्जापुर में भाकपा(माले) का नौवां जिला सम्मेलन विगत 13-14 फरवरी को पटेहरा ब्लाॅक के बेलहरा मोड़ सामुदायिक भवन में संपन्न हुआ. हाल का नामकरण ऐपवा की संस्थापक जिला अध्यक्ष कामरेड पन्ना कोल को समर्पित था. उद्घाटन के पूर्व झंडोत्तेलन कर दिवंगत साथियों, शहीदों व दिल्ली किसान आंदोलन के दौरान शहीद हुए किसानों को दो मिनट मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की गई.

सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए भाकपा(माले) केंद्रीय कमेटी के सदस्य काॅ. मो. सलीम ने कहा कि मिर्जापुर में हमारी पार्टी राज्य दमन का मुकाबला करते हुए लोकतंत्र व जीवन के मौलिक अधिकारों की सुरक्षा व गारंटी के लिए संघर्ष करते हुए आगे बढ़ी है. आज देश पर सांप्रदायिक कारपोरेट का शासन है. मोदी सरकार संवैधानिक संस्थाओं को खोखला बना रही है. भाजपा अपने फासीवादी एजेंडे को पूरी नग्नता के साथ आगे बढ़ी है. आज देश पर सांप्रदायिक कारपोरेट का शासन है. मोदी सरकार संवैधानिक संस्थाओं को खोखला बना रही है. भाजपा अपने फासीवादी एजेंडे को पूरी नग्नता के साथ आगे बढा़ रही है. धारा 370 का खात्मा, सीएए-एनआरसी, श्रम कानूनों में बदलाव और अब कृषि कानूनों को लागू करके हमारी खेती किसानी तथा जीवन पर बुलडोजर चला रही है. हमें अपने आंदोलन जीवी होने पर गर्व है क्योंकि आन्दोलन की रचना के परिणामस्वरूप हमें आजादी मिली. हमारे आंदोलन की सृजनात्मकता हमारे संविधान में दिखती है. उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य में पूरी तरह से अलोकतांत्रिक, दमनकारी व हत्यारी सरकार है. आज दलित, अल्पसंख्यक, महिला होना गुनाह है. लोकतंत्र के लिए आवाज उठाने वालों को जेल, लाॅककप में हत्या व मुठभेड़ झेलना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि नये कृषि कानूनों के लागू होने पर सरकारी खरीद बंद होने किसान तबाह हो जायेंगे और सस्ते दर पर मिलने वाला राशन बंद होने से गरीब भूखों मर जायेंगे. किसान आंदोलन आम आदमी के जीवन व रोटी बचाने का आंदोलन है. इसलिए हमें पूरी ताकत से इस आंदोलन का समर्थन व गांव तक विस्तार करना है. हमें पार्टी को जीवंत बनाना है और आनेवाले समय में होनेवाले विविध तरह के आंदोलनों से अपने को एकताबद्ध करना है. उद्घाटन सत्र को भाकपा व माकपा के जिला सचिवों ने भी संबोधित किया. सम्मेलन में उपस्थित 70 प्रतिनिधियों में से 33 ने बहस में हिस्सा लिया. राज्य कमेटी की तरफ से पर्यवेक्षक का. राधेश्याम मौर्य की उपस्थिति में 19 सदस्यीय जिला कमेटी चुनी गई और का. शशिकांत कुशवाहा जिला सचिव निर्वाचित हुए.