अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे पर भाकपा माले का वक्तव्य

Afganistan map

 

नई दिल्ली 16 अगस्त

अफगानिस्तान में चल रहे घटनाक्रम से हम बेहद चिंतित हैं. वहां तालिबान द्वारा तेजी से सत्ता पर किये गये कब्जे ने उस देश को भयानक अराजकता और अनिश्चितता में धकेल दिया है; नागरिकों पर हिंसक हमलों, महिलाओं पर अत्याचार, और मानवाधिकारों एवं नागरिक स्वतंत्रताओं पर व्यवस्थित तरीके से हमलों की खबरें हैं.  

आज के हालातों के लिए अमेरिकी विदेश नीति ही पूरी तरह से जिम्मेदार है. 1980 व 1990 के दशकों के दौरान तालिबान को बढ़ावा देने की नीति से लेकर 9/11 के बाद के दौर में अफगानिस्तान में अमेरिकी घुसपैठ और कब्जा, और फिर अब बिना किसी ठोस तैयारी के अमेरिकी सेनाओं को हटाने तक — यह सैन्य हस्तक्षेप और कब्जा करने की अमेरिकी नीति ही है, जिसके कारण आज अफगानिस्तान की ऐसी दयनीय हालत बन गई है.

अफगानिस्तान में 1996 से 2001 तक के तालिबानी शासन का अनुभव, और उसकी घोर प्रतिगामी व तानाशाही क़िस्म की विचारधारा व राजनीति, पूरी दुनिया और खासकर दक्षिण एशिया के लोगों  में अफगानिस्तान व इस क्षेत्र के भविष्य को लेकर गहरी आशंका पैदा कर रही है. हम आशा करते हैं कि वैश्विक अभिमत और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का दबाव अफगानिस्तान में आने वाले तालिबानी शासन पर कुछ अंकुश लगा पायेगा और इस संकटग्रस्त देश की जनता लड़कर शांति, प्रगति, व लोकतंत्र हासिल कर पाएँगे.

हम भारत सरकार से मांग करते हैं कि अफगानिस्तान में फंसे सभी भारतीय नागरिकों को सुरक्षित वापस लाया जाये और जो अफगानी नागरिक शिक्षा, रोजगार या अन्य वजहों से इस समय भारत में रह रहे हैं उन्हें पूरी सुरक्षा मिले. अफगान संकट के चलते जाहिर है कि कई अफगानी नागरिक उनके देश में शांति स्थापित होने तक भारत में शरण मांगने के लिए बाध्य होंगे. भारत में अफगानिस्तान से आने वाले मुस्लिम प्रवासियों के साथ बेतुके रूप में भेदभाव करने वाले नागरिकता संशोधन कानून की निरर्थकता इस समय हर कोई महसूस कर रहा है.

हम अफगानिस्तान में शांति, स्थायित्व, व लोकतंत्र की स्थापना की जद्दोजहद में अफगानी जनता एवं विश्व जनमत के साथ खड़ा होते हुए, अफगानिस्तान की घटनाओं को बहाना बना कर भारत में मुस्लिम विरोधी घृणा एवं हिंसा फैलाने के किसी भी प्रयास को नाकाम करने के लिए पूरी तरह सजग रहना होगा. अफगानिस्तान में धर्मान्ध कट्टरपंथी राजनीतिक ताकतों की उभार से पैदा हुए संकट से हमें सबक और प्रेरणा लेनी चाहिए कि भारत में धर्मांध कट्टरपंथी राजनीति को समय रहते खारिज करें और साम्प्रदायिक सौहार्द, समाजिक प्रगति और लोकतांत्रिक अधिकारों के संघर्षों को मजबूत करने का संकल्प लें. 

 

— भाकपा (माले) केन्द्रीय कमेटी