पंचायत चुनाव के बारे में भाकपा(माले) के दिशा निर्देश


पंचायतों को जनता के हक-अधिकारों के संघर्ष का केन्द्र बनाओ!

पंचायतों पर जनता की दावेदारी व वर्चस्व को मजबूत करो!

1. परिप्रेक्ष्य व दिशा:  बिहार में पंचायत चुनाव निर्दलीय आधार पर होता है जो चुनाव में हर तरह के अवसरवादी व सिद्धांतहीन विचार व व्यवहार को बढ़ावा देता है. निर्दलीयता की आड़ में सत्ताधारी पार्टी पंचायत चुनाव में जनता के आक्रोश का निशाना बनने से भी बच जाती है. चुनाव अगर दलीय होता तो पार्टी के नीति, सिद्धांत व व्यवहार पर बात होती.

सयुंक्त किसान मोर्चा द्वारा कई कार्यक्रम घोषित


सयुंक्त किसान मोर्चा ने प्रधानमंत्री के किसान विरोधी बयानों की निंदा करते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री ने यह कहते हुए कि बिना मांग के इस देश मे बहुत कानून बनाये गए हैं, साबित कर दिया है कि ये कानून किसानों की मांग नहीं रहे हैं. किसानों की मांग कर्जा मुक्ति – पूरा दाम की रही है जिस पर सरकार गंभीर नहीं है.

25 जनवरी को बनेगी मानव श्रृंखला


भाकपा(माले) ने चल रहे देशव्यापी किसान आंदोलन के समर्थन में महागठबंधन की पार्टियों राष्ट्रीय जनता दल, भाकपा और माकपा से आगामी 25 जनवरी को (गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर) पूरे बिहार में संयुक्त रूप से मानव श्रृखला बनाने की अपील की है. भाकपा(माले) राज्य सचिव कुणाल ने विगत 2 जनवरी को पत्र लिखकर यह अपील की है. कार्यक्रम पर सहमति बन जाने के बाद जल्द ही महागठबंधन की पार्टियों की बैठक बुलाई जाएगी जिसमें कार्यक्रम को अंतिम रूप दिया जाएगा.

बिहार विधानसभा चुनाव 2020: भाकपा(माले) प्रत्याशियों की सूची


[ तीनों निवर्तमान विधायकों समेत खेत मजदूरों, किसानों, स्कीम वर्कर्स व मजदूरों के संघर्ष व शिक्षा अधिकार, रोजगार तथा लोकतांत्रिक अधिकार आंदोलन की अगुआई करनेवाले चर्चित नेताओं को बनाया उम्मीदवार बनाया है. सूची में कई युवा प्रत्याशी-नए चेहरे भी शामिल हैं. आइसा के महासचिव व जेएनयूएसयू के पूर्व महासचिव संदीप सौरभ पालीगंज और स्कीम वर्कर्स की जुझारू नेता शशि यादव दीघा से चुनाव लड़ेंगी ]

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के नारे

 

  • एनडीए हराओ-बिहार बचाओ!

  • जनता की दावेदारी आगे बढ़ाओ!!

  • बिहार को यूपी बनाने के भाजपाई मंसूबे को चोट दो!

  • लोकतंत्र, संविधान और सुरक्षा-सम्मान के लिए भाकपा(माले) को वोट दो!!

  • एनडीए हराओ-बिहार बच

केंद्रीय कमेटी की बैठक (डिजिटल) के सर्कुलर के अंश

भाकपा(माले) की केंद्रीय कमेटी की संक्षिप्त एक दिवसीय बैठक 6 अगस्त को हुई. बैठक में दुनिया भर में कोविड-19 के चलते प्राण गंवाने वालों, विनाशकारी बेरूत धमाकों में मरने वालों, अनियोजित तथा क्रूरतापूर्वक थोपे गए लाॅकडाउन के शिकार होने वालों, पश्चिम बंगाल और ओडिशा के अमफन चक्रवाती तूफान और असम व बिहार की बाढ़ के शिकार लोगों की मृत्यु पर शोक प्रकट किया गया.