फिर आया है फासीवाद
फिर आया है घिनौना फासीवाद हमारे घर में
नया हिटलर समय पर फटकार रहा है चाबुक
दर्द से बोझिल हो गई है चारों तरफ की हवा
मौसम बेरंग होकर दुःख से रुठ गए हैं
हृदय की भाषाएं उन्मुक्त होने के लिए रो-रोकर हृदय में मर रही हैं
आंखों में सूख चुके हैं आंसू अपने आप ही
फिर आया है घिनौना फासीवाद हमारे घर में
हमारे समय को तहस-नहस कर हमारे ही आंगन में
आकर खड़ा हुआ है नया हिटलर
हत्या करने के लिए इंसानियत की.

(अनुवाद-दिनकर कुमार)