रिपोर्ट

गिरफ्तारी के खिलाफ प्रदर्शन

विगत 14 मार्च 2020 को जिले के विभिन्न स्थानों से चलकर समस्तीपुर के मालगोदाम चौक पर जुटे भाकपा(माले) एवं खेग्रामस के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकाला और उजियारपुर प्रखंड के भाकपा(माले) नेताओं एवं कार्यकर्ताओं पर पुलिसिया उत्पीड़न एवं झूठे मुकदमे में गिरफ्तारी का विरोध करते हुए उनपर लदे फर्जी मुकदमा (संख्या 242/17 एवं 327/18) को समाप्त करने की मांग की. सभी लोग अपने हाथों में झंडे, बैनर एवं मांगों से संबंधित नारे लिखी तख्तियां लिए हुए बाजार क्षेत्र के मुख्य मार्गाें और ओवरब्रिज चौराहा होते हुए पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे और नारे लगाते हुए जोरदार प्रदर्शन किया.

बिहार विधानसभा सत्र : चर्चे में रहा माले विधायक दल

16 वीं बिहार विधानसभा का आखिरी बजट सत्र कोरोना वायरस के कारण 31 मार्च की बजाए 16 मार्च को ही समाप्त हो गया. इसके कारण बहुत सारे महत्वपूर्ण प्रश्नों पर चर्चा नहीं हो सकी. बावजूद, मौजूदा सत्र में भाकपा(माले) विधायकों की पहलकदमियां व सटीक रणनीति से एक तरफ जहां सत्ता पक्ष दबाव में रहा, वहीं दूसरी ओर विपक्ष भीे एकताबद्ध रहा. पटना से निकलने वाले एक दैनिक अखबार ने माले विधायकों की इन पहलकदमियों और उनके द्वारा विधानसभा के पोर्टिकों में प्रत्येक दिन किए गए प्रदर्शन की तख्तियों का कोलाज बनाते हुए विशेष खबर बनायी.

विधायक दल को सम्मानित किया

बिहार राज्य एड्स नियंत्रण कर्मचारी संघ (ऐक्टू-ग़ोप गुट) ने एड्स कर्मियों के सवाल को विधान सभा में प्रमुखता से उठा कर संविदा एड्स कर्मियों की बहुत सारी मांगों को पूरा करवाने में उत्कृष्ट योगदान के लिये भाकपा(माले) विधायकों को सम्मानित किया.

आशाकर्मियों का प्रदर्शन

‘आशा संयुक्त संघर्ष मंच’ के आह्वान पर विगत 17 मार्च 2020 को राज्य की हजारों आशा कार्यकर्त्ताओं ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के समक्ष स्थानीय गर्दनीबाग में दिसंबर 2018 में हुए हड़ताल के दौरान सरकार के साथ संपन्न समझौता को बिंदुवार लागू करने की मांगं पर ‘पोलियो को भगाया है, कोरोना को हरायेगें, नीतीश सरकार से लड़कर मानदेय का हक पाएंगे’ के नारे के साथ जुझारू प्रदर्शन किया. उनकी मुख्य मांगों में समझौता में तय 1000रु.

देशद्रोह मुकदमे की अनुमति का विरोध

जेएनयू के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार, उमर खालिद, अनिर्वाण भट्टाचार्य सहित 9 छात्रों पर केजरीवाल सरकार द्वारा देशद्रोह का मुकदमा चलाने की अनुमति देने के खिलाफ वाम दलों भाकपा(माले), भाकपा, माकपा के संयुक्त बैनर तले विगत 8 मार्च 2020 को बिहार के सभी जिला मुख्यालयों पर विरोध प्रदर्शन आयोजित हुए.

ऐक्टू के 10वें राष्ट्रीय सम्मेलन का आह्वान : मजदूर, देश व जन विरोधी, विभाजनकारी मोदी सरकार के खिलाफ और मजदूर विरोधी लेबर कोड्स की वापसी की मांग पर आंदोलन तेज करें!

भारत में मजदूर आंदोलन के सौ वर्ष तथा एक्टू आंदोलन के भी तीस वर्ष पूरा होने के अवसर पर क्रांतिकारी मजदूर आंदोलनों की धरती पश्चिम बंगाल के नार्थ चौबीस परगना जिला स्थित नैहाटी में ऐक्टू का तीनदिवसीय (2-4 मार्च 2020) अखिल भारतीय सम्मेलन आयोजित हुआ. सम्मेलन स्थल का नामकरण प. बंगाल की प्रथम जूट मिल महिला श्रमिक नेता, सुभाषचंद्र बोस के खिलाफत आंदोलन की सक्रिय कर्मी व स्वतन्त्रता सेनानी शहीद संतोष कुमारी देवी नगर किया गया था. सभागार को एक्टू के संस्थापक व संगठक सदस्य रहे का. डीपी बख्शी (पश्चिम बंगाल) व का. स्वपन मुखर्जी (दिल्ली) तथा मंच को वरिष्ठ मजदूर आंदोलनकारी का.

लंदन के ‘मिलियन वुमेन राइज मार्च’ में शाहीन बाग के प्रति एकजुटता

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर लंदन में औरतों के खिलाफ हिंसा के विरोध में ‘मिलियन वुमेन राइज मार्च 2020’ आयोजित किया गया, जिसमें हजारों महिलाओं ने हिस्सेदारी की. इस मार्च में शामिल महिलाएं जोशीले ढंग से मोदी शासन के भेदभाव-मूलक और फासीवादी ‘सीएए’ जैसे कदमों के खिलाफ प्रतिरोध का प्रतीक बन चुके महिलाओं के शाहीन बाग धरने और देश भर में इसी किस्म के अन्य शाहीन बागों के लिए एकजुटता जाहिर कर रही थीं.

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2020 : देश की हर महिला मांगे – शांति, न्याय और बहनापा

“औरतें उठी नहीं तो जुल्म बढ़ता जाएगा, जुल्म करनेवाला सीनाज़ोर होता जायेगा”

ऐपवा ने वाराणसी में महिला अधिकार मार्च संगठित किया जिसमें महिला श्रमिकों और छात्राओं ने बड़ी संख्या में हिस्सेदारी की. बीएचयू के लंका गेट से बीएचयू की प्रोफेसर प्रतिमा गोंड के नेतृत्व में निकाला गया यह मार्च रविदास गेट पर आकर सभा में तब्दील हो गया.

हेमंत सोरेन से मिला प्रतिनिधिमंडल

भाकपा(माले) विधायक कामरेड विनोद सिंह के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने, जिसमें आईएएस गोपीनाथन कन्नन, अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज, अधिवक्ता फादर महेंद्र पीटर तिग्गा, नदीम खान एवं हाजी नवाब शामिल थे, पिछले दिनों नवनिर्मित झारखंड विधानसभा (रांची) स्थित मुख्यमंत्री कार्यालय कक्ष में झारखंड के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाकता की और जनविरोधी, संदिग्ध, दिग्भ्रमित एनपीआर पर को रोकने की मांग की.

बारिश में भींगते निकाली चेतावनी रैली

विगत 6 मार्च 2020 को झुंझुनू (राजस्थान) में अखिल भारतीय किसान महासभा के बैनर तले चेतावनी रैली निकाली गई जिसमें झमाझम हो रही बारिश से बेपरवाह सेकड़ों किसानों ने गांधी चौक से कलेक्ट्रेट तक किसान महासभा के झंडे हाथ में लेकर सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए मार्च किया. रैली में शामिल किसानों का जोश देखते ही बनता था.