नीतीश सरकार की दमनकारी नीति और गया पुलिस की बर्बरता का उदाहरण है आढ़तपुर

भाकपा(माले) के उच्चस्तरीय जांच दल ने किया दौरा

पुलिस बर्बरता के शिकार हुए गया जिले के बेलागंज प्रखंड अंतर्गत आढ़तपुर गांव का विगत 18 फरवरी 2022 (शुक्रवार) को भाकपा(माले) की एक राज्यस्तरीय जांच दल ने दौरा किया. जांच दल का नेतृत्व भाकपा(माले) के अरवल विधायक कामरेड महानंद सिंह, भाकपा(माले) के गया जिला सचिव निरंजन कुमार, ऐपवा नेता रीता वर्णवाल और इनौस के राज्य उपाध्यक्ष तारिक अनवर ने कियो.

बाढ़-कटाव पीडितों के जीवन-जीविका के साथ खिलवाड़ बंद करे सरकार

बाढ़ कटाव से पीड़ित पश्चिम चंपारण जिले के सिकटा-मैनाटाड़ प्रखंडों के हजारों लोगों ने बाढ़ से सुरक्षा की व्यवस्था की मांग पर विगत 21 फरवरी 2022 को जिला मुख्यालय बेतिया में प्रदर्शन किया.

जहरीली शराब से हुई मौतों के लिए योगी सरकार जिम्मेदार है

आजमगढ़ जहरीली शराब कांड पर भाकपा(माले) की जांच रिपोर्ट

भाकपा(माले) की सात सदस्यीय टीम ने माहुल कस्बा, दखिनगांवा, रसुल पुर, मोती पैर (इमाम गढ़)  आदि इलाके का दौरा किया और पीडित मृतकों के परिजनों से बातचीत की. बातचीत के दौरान लोगों ने बताया कि 20 फरवरी 2022 की शाम माहुल स्थित देशी शराब के ठेके से जिसने भी दारू लेकर पीया, उसकी हालत एक-एक कर बिगड़ती गई. कुछ लोगों ने अस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में ही दम तोड़ दिया तो कुछ जो रात में दारु पीकर सोये और सुबह में मृत पाये गये.

गया जिले के बेलागंज पहुंची आइलाज की जांच टीम

22 फरवरी 2022 को ऑल इंडिया लाॅयर्स एसोसिएशन फाॅर जस्टिस (आइलाज) की एक चार सदस्यीय जांच टीम गया जिला के बेलागंज प्रखंड के आढ़तपुर गांव (कोरमाथू पंचायत) में पहुंची जहां विगत 15 फरवरी को बालू माफिया और जिले के वरीय पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की साठगांठ से हो रहे अवैध बालू खनन का विरोध कर रहे ग्रामीणों पर पुलिस ने बर्बर अत्याचार किया था.

संविधान पर हमले और मनमाने कानून के खिलाफ तेज हुआ न्याय का संघर्ष

ऑल इंडिया लाॅयर्स एसोसिएशन फाॅर जस्टिस (आइलाज) के बिहार चैप्टर की एक बैठक विगत 20 फरवरी 2022 को  पटना में संपन्न हुई जिसमे विभिन्न जिलों से आए वकीलों और लाॅ के छात्रों ने भागीदारी की.

पटना में पुलिसिया पिटाई से हुई मौत के खिलाफ आंदोलन

पटना जिले के धनरुआ पुलिस थाने में पिछले दिनों हुए अशोक मांझी हत्याकांड के खिलाफ 20 फरवरी 2022 को भाकपा(माले) की अगुआई में किश्तीपुर-चनाकी के पास पटना-गया रोड को 4 घंटे तक जाम किया गया और धनरूआ थाना अध्यक्ष को बर्खास्त करने की मांग की गई.

नीतीश राज में सांप्रदायिक ताकतों का मनोबल लगातार बढ़ता ही जा रहा है

बिहार में आरएसएस-भाजपा से समर्थित हिन्दुत्ववादी संगठनों का मनोबल लगातार बढ़ता ही जा रहा है. समस्तीपुर जिले में इन संगठनों द्वारा अपने ही सहयोगी सरकारी दल जदयू के नेता खलील रिजवी की माॅब लिंचिंग की घटना यह साबित कर रही है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इनके समक्ष पूरी तरह से घुटने टेक दिए हैं.

इनौस ने सहायता केंद्र लगाया

इंकलाबी नौजवान सभा की पलामू जिला कमिटी ने पाटन प्रखंड कार्यालय के समक्ष सहायता शिविर लगाया. यह सहायता शिविर इंकलाबी नौजवान सभा की भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम का हिस्सा है. विदित हो कि पाटन प्रखंड कार्यालय भ्रष्टाचार का अड्डा व दलालों का केंद्र बन चुका है. यहां आम लोग महीनों चक्कर लगाते रह जाते हैं, रिश्वत और दलाली देने के बगैर उनका कोई काम हो नही हो पाता है. इसीलिए इनौस ने ‘नौजवानों ने ठाना है, प्रखंड कार्यालय को दलालों से मुक्त बनाना है’ नारे के साथ अभियान चलाया.

भूमाफिया के आतंक के खिलाफ दरभंगा में आंदोलन

दरभंगा शहर के जीएम रोड में विगत 9 फरवरी 2022 को भू-माफिया गिरोह द्वारा विगत 9 फरवरी को जमीनी विवाद में भू-माफिया गिरोह द्वारा विगत 40 वर्षों से बसे रीता झा के परिवार के सदस्यों पर बर्बरतापूर्ण हमला किया गया. प्रशासन की नाक के ठीक नीचे भू-माफियाओं ने 8 माह की गर्भवती पिंकी झा व उनके भाई संजय झा को जला कर मार दिया. पीएमसीएच में इलाज के दौरान 15 फरवरी को दोनों की मृत्यु हो गई. रीता झा परिवार के साथ हुए जघन्य अपराध व जिंदा जला देने की घटना के खिलाफ भाकपा(माले) की अगुआई में आंदोलन शुरू हो गया है.

भाषा विवाद में मत उलझाओ, रोजगार कहां है यह बतलाओ!

हेमन्त सोरेन सरकार की वादाखिलाफी के खिलाफ स्थानीयता आधारित नियोजन नीति और रोजगार की मांग को लेकर आइसा-इनौस ने झारखंड में राज्यव्यापी प्रतिवाद अभियान छेड़ दिया है.