श्रद्धांजलि

कामरेड अलाउद्दीन शास्त्री को लाल सलाम !


कामरेड अलाउद्दीन शास्त्री का 22 मई 2021 को 89 साल की उम्र में लखनऊ में निधन हो गया. उनको पिछले मार्च महीने में ब्रेन हैमरेज हो गया था. लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल काॅलेज में उनका इलाज चला था.

शंख घोष को याद करते हुए

 

बांग्ला साहित्य का एक युग अचानक ख़त्म हो गया. कोरोना महामारी एक मूर्धन्य साहित्यकार को निगल गई. वे बांग्ला साहित्य में एक नक्षत्र की तरह थे जिसके टूटने से पूरी बांग्ला साहित्य बिरादरी सकते में है.

शंख घोष के रक्त में विप्लव इस तरह घुला-मिला था कि उन्हें उनकी रचनाओं से अलग करने का मतलब उनकी आत्मा को छीन लेने जैसा ही था. उनकी रचनाएं सिर्फ नवीन ही नहीं वरिष्ठ साहित्यकारों को भी प्रेरणा देती हैं. सबको उनके साहित्य से एक ऊर्जा मिलती थी.

अलविदा, कामरेड अंबरीश राय!

 

कोविड-19 और क्रूर राज्य व्यवस्था ने हमारे महत्वपूर्ण साथी और भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था को बचाए रखने, बच्चों के बुनियादी शिक्षा के अधिकार के लिए सतत् संघर्षरत प्रिय अंबरीश राय को हमसे छीन लिया.

काॅमरेड लक्ष्मणभाई छगनभाई वाडिया

 

काॅमरेड लक्ष्मणभाई छगनभाई वाडिया (उम्र 64 वर्ष) का विगत 12 अप्रैल 2021 को निधन हो गया. दक्षिण गुजरात के वारली आदिवासी समुदाय के एक जुझारू लोकप्रिय नेता थे. उनके पिता गरीब खेत मजूर थे, इसीलिए वे चौथी कक्ष से आगे नहीं पढ़ाई कर सके. बचपन से ही बंधुआ मजदूरी व खेत मजदूरी कर परिवार का भरण-पोषण करते रहे, अपने एक छोटे भाई को पढ़ाया जो आगे चलकर राष्ट्रीयकृत बैंक के ब्रांच मैनेजर बने.

काॅ. गुलशन भारती को लाल सलाम!

 

कामरेड गुलशन भारती 21वीं सदी में जन्मीं भाकपा-माले की नई पीढ़ी के युवा पार्टी सदस्य थे. उनके परिजन व टोले-मुहल्ले के लोग भाकपा(माले) से बरसों से जुड़े हुए हैं. वे गड़हनी प्रखंड के काऊप गांव के दलित निम्नवर्गीय परिवार से आते थे. उनके घर में शिक्षिका मां, खेतिहर पिता और एक बहन है. चाचा और दादा सहित उनका पूरा परिवार पार्टी में सक्रिय भूमिका में रहता है.

अलविदा कामरेड दशरथ महतिया!

 

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले के निघासन क्षेत्र में भाकपा(माले) के सबसे वरिष्ठ किसान नेता कामरेड दशरथ महतिया का विगत 9 अप्रैल 2021 की शाम को निधन हो गया है. वे लगभग 94 वर्ष के थे. मूलतः गोरखपुर जिले के रहने वाले कामरेड दशरथ महतिया आजादी की लड़ाई के दौर में ही अपने चाचा के वैचारिक प्रभाव में आकर कम्युनिस्ट आंदोलन से जुड़ गए थे.