लोकसभा चुनाव 2019: सीवान

पूरा होगा का. चंद्रशेखर-श्यामनारायण का संकल्प

31 मार्च का सीवान में शहीद का. चंद्रशेखर व श्यामनारायण यादव की शहादत दिवस के अवसर पर शहीद का. श्यामनारायण यादव के गांव ठेपहां(जीरादेई) तथा शहीद का. चंद्रशेखर के सीवान स्थित प्रतिमास्थल के नजदीक बाबा साहेब भीमराव अंबेदकर पार्क में संकल्प सभायें आयोजित हुई. इन सभाओं को चर्चित दलित नेता व गुजरात के बड़ग्राम क्षेत्र के  विधायक जिग्नेश मेवाणी, पार्टी के पोलित ब्यूरो सदस्य व ऐपवा की राष्ट्रीय सचिव का. कविता कृष्णन, जनेवि छात्रा संघ की पूर्व अध्यक्ष व आइसा नेता सुचेता डे व गीता कुमारी, जनेवि छात्रा संघ के मौजूदा अध्यक्ष एन साई बालाजी व जेएनयूएसयू की उपाध्यक्ष सारिका ने संबोधित किया.

ठेपहां में का. श्यामनारायण की तस्वीर पर माल्यार्पण के बाद सभा को संबोधित करते हुए का. कविता कृष्णन ने कहा कि बाबरी मस्जिद के ध्वंस के बाद का. चंद्रशेखर अकसर कहा करते थे कि आज देश को लेकर दो तरह के विचार आमने-सामने टकरा रहे हैं. भाजपा व संघ परिवार जनता की आजादी, बराबरी, अधिकारों और भाईचारा को खत्म कर भारत को फासिस्ट हिन्दू राज बनना चाहते हैं जबकि देश के प्रगतिशील नागरिक भगत सिंह व अम्बेडकर के सपनों का सच्चा भारत बाना चाहते हैं जहां सबको बराबरी, आजादी व अधिकार मिले तथा आपसी भाईचारा कायम रहे. उन्होंने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में इन्हीं दो विचारों के बीच निर्णायक जंग छिड़ी हुई है. अगर हमें का. चंद्रशेखर व श्यामनारयण के सपनों का भारत बनाना है तो हमें सीवान समेत पूरे देश में भाजपा को परास्त करने की जोरदार मुहिम छेड़नी होगी.

इसके बाद यह जत्था सीवान लोकसभा क्षेत्र के प्रत्याशी का. अमरनाथ यादव व दरौली क्षेत्र के विधायक का. सत्यदेव राम की अगुआई में सैकड़ों ग्रामीणों व दोपहिया वाहनों पर सवार दर्जनों छात्रा-युवाओं के साथ चलकर सीवान शहर के गोपालगंज मोड़ स्थित शहीद का. चंद्रशेखर के प्रतिमा स्थल पर पहुंचा. वहां का. चंद्रशेखर और डा. अंबेदकर की प्रतिमाओं पर माल्यार्पण के बाद एक संकल्प सभा आयोजित की गई.

संकल्प सभा को मुख्य वक्ता के बतौर संबोधित करते हुए चर्चित दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने का. चंद्रशेखर व श्यामनारयण यादव को शहीदे आजम भगत सिंह की परंपरा का सच्चा वारिस करार दिया. उन्होंने भगत सिंह ने जिस तरह से देश की सच्ची आजादी के लिए अपनी जान की परवाह नहीं की, इन दोनों ने भी सीवान व देश की जनता के खुशहाल जीवन की आकांक्षाओं के लिए खुद को कुर्बान कर दिया. उन्होंने कहा कि अगर वे जीवित रहते तो इस संघर्ष में वे मूल्यवान योगदान करते लेकिन उनकी शहादत उससे कहीं ज्यादा मूल्यवान धरोहर है जो आनेवाली पीढ़ियों का सदैव मार्गदर्शन करती रहेगी.

संकल्प सभा को संबोधित करते हुए का. कविता कृष्णन ने कहा कि यह साल जलियांवाला बाग कांड का शताब्दी वर्ष है और इस अवसर पर भाकपा(माले) पूरे देश में कार्यक्रम आयोजित करेगी. उन्होंने कहा कि यह अंग्रेजों ने देश में आजादी के संघर्ष के दौरान हिन्दू-मुस्लिम समुदाय के बीच बढ़ती एकता से डरकर इस कांड को अंजाम दिया था. ऐसा होना उनको हमेशा ही 1857 के महाविद्रोह की याद दिला देता था.

संकल्प सभा को संबोधित करते हुए एन साईं बालाजी, सुचेता डे और सारिका ने देश की मोदी सरकार द्वारा पिछले पांच सालों के दौरान छात्रा-युवाओं के साथ किए गए विश्वासघात का विस्तार से जिक्र किया. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने शिक्षा और रोजगार के मामले में देश को खस्ता हालत में पहुंचा दिया है. वह शिक्षा और रोजगार की मांग कर रहे नौजवानों को ‘देशद्रोही; करार दे रही है और खुद कॉरपोरेट हित में देश के साथ गद्दारी कर रही है. वह अपनी विफलता को सांप्रदायिक नफरत और युद्धोन्माद पैदा करने के जरिए ढंकना चाहती है.

भाकपा(माले) पोलित ब्यूरो के सदस्य का. धीरेन्द्र झा ने भी संकल्प सभा को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि सीवान की धरती पर भाकपा(माले) समाज के दलित-वंचित तबकों - किसान-मजदूरों की आवाज बनकर उभरी है और इसने अपने नेताओं-कार्यकर्ताओं की शहादत के बल पर समाज के तमाम न्यायपसंद-लोकतंत्र पसंद जमातों का विश्वास  व समर्थन हासिल किया है. का. अमरनाथ यादव को इस बार लोकसभा में पहुंचाकर एक नये अध्याय की शुरूआत की जाएगी.

संकल्प सभा में दूरदराज के गांवों से आयी महिलाओं समेत भारी तादाद में खेत मजदूर, किसान, शहरी नागरिक और इंसाफ मंच, पसमांदा मुस्लिम महाज, आइसा, आरवाइए, ऐपवा, खेग्रामस, किसान महासभा आदि जनसंगठनों के नेता कार्यकर्ता और दर्जनों जनप्रतिनिधि मौजूद थे. संकल्प सभा की अध्यक्षता भाकपा(माले) के जिला सचिव का. नैमुद्दीन अंसारी ने की. सभा समाप्ति के बाद का. चंद्रशेखर के गांव बिन्दुसार पहुंचकर उनकी समाधि पर भी मालार्पण किया गया जिसमें गांव के लोगों व उनके परिजनों ने भी हिस्सा लिया.

सीवान के हर गांव-कस्बे में भाकपा(माले) के चुनाव अभियान की जोरदार शुरूआत हो चुकी है जिसका नेतृत्व जिले के चर्चित जननेता व भाकपा(माले) प्रत्याशी का. अमरनाथ यादव कर रहे हैं.

वर्ष28
अंक16