सम्मेलन/कन्वेंशन

श्रमिकों का राष्ट्रीय कन्वेंशन : 8 जनवरी 2020 को देशव्यापी आम हड़ताल

मजदूर वर्ग के खिलाफ मोदी सरकार के हमलों के विरोध में नई दिल्ली के संसद मार्ग पर 30 सितंबर 2019 को श्रमिकों का राष्ट्रीय कन्वेंशन आयोजित किया गया. कन्वेंशन में 8 जनवरी 2020 को मजदूर वर्ग व मेहनतकश अवाम की एक-दिवसीय आम हड़ताल संगठित करने का आह्नान जारी किया गया.

गहराते आर्थिक संकट और जनता की बढ़ती तकलीफों के खिलाफ वामपंथी पार्टियों का राष्ट्रीय कन्वेंशन

[ 20 सितंबर 2019 को दिल्ली में वामपंथी पार्टियों ने एक राष्ट्रीय कन्वेंशन आयोजित किया. इस कन्वेंशन को माकपा, भाकपा और भाकपा(माले) के महासचिवों के साथ-साथ आरएसपी और फाॅरवर्ड ब्लाॅक के नेताओं ने संबोधित किया. इन वक्ताओं ने मौजूदा आर्थिक संकट के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराया और इससे छुटकारा पाने के लिए काॅरपोरेटों को बेलआउट पैकेज नहीं, बल्कि सार्वजनिक निवेश में पर्याप्त इजाफा करने की मांग दुहराई. यहां हम उस कन्वेंशन में सर्वसम्मति से स्वीकृत ‘प्रस्ताव’ को पेश कर रहे हैं – सं.]

यह कन्वेंशन: ...

भाकपा(माले) की पटना महानगर कार्यशाला

पटना के कंकड़बाग मुहल्ले के झा कम्युनिटी हाॅल में विगत14 सितंबर 2019 को पटना महानगर द्वारा आयोजित पार्टी की एक दिवसीय कार्यशाला को संबोधित करते हुए भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने कहा कि मोदी-2 शासन के पहले 100 दिन काले कानूनों को जनता पर जबरन थोपने और संविधान व लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाने के लिए याद किए जाएंगे. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कह रहे हैं कि यह तो अभी ट्रेलर है, पूरी फिल्म बाकी है. जाहिर बात है कि भाजपा व आरएसएस इस देश में राष्ट्रीय आंदोलन के गर्भ से निकले संविधान व लोकतंत्र को खत्म कर मनुस्मृति थोपना चाहते हैं.

‘स्मार्ट सिटी बनाम समर्थ सिटी’ : पटना में एआइपीएफ द्वारा जनसुनवाई

18 सितंबर 2019 को पटना के आइएमए हाॅल में ऑल इंडिया पीपल्स फोरम (एआईपीएफ) द्वारा जन सुनवाई का आयोजन किया गया. जन सुनवाई का विषय था, ‘स्मार्ट सिटी बनाम समर्थ सिटी’. स्मार्ट सिटी के नाम पर पटना केे अदालतगंज तालाब का सरकार द्वारा अतिक्रमण करने व पटना के शहरी गरीबों व फुटकर दुकानदारों पर अत्याचार के खिलाफ इस जन सुनवाई का आयोजन किया गया.

निजीकरण, निगमीकरण, नई पेंशन स्कीम व श्रम कानूनों में संशोधन के खिलाफ ऐक्टू का लखनऊ में जन कन्वेंशन

पूर्वोत्तर रेलवे (एनईआर) वर्कर्स यूनियन तथा ऐक्टू की उत्तर प्रदेश इकाई के तत्वावधान में 15 सितंबर 2019 को लखनऊ के गंगा प्रसाद मेमोरियल हाॅल (अमीनाबाद) में जन कन्वेंशन का आयोजन किया गया. कन्वेंशन के मुख्य वक्ता रेल मजदूर नेता व ‘फ्रंट अगेंस्ट न्यू पेंशन स्कीम इन रेलवे’ (एफएएनपीएसआर) के राष्ट्रीय अध्यक्ष का. अमरीक सिंह ने कहा कि रेलवे, रक्षा, बैंक, बीमा, तेल सहित सार्वजनिक क्षेत्र के तमाम उपक्रमों को मोदी सरकार कारपोरेट घरानों के हवाले करना चाहती है. निगमीकरण उसका पहला चरण है.

भाकपा(माले) का 5वां उजियारपुर प्रखण्ड सम्मेलन

समस्तीपुर जिले के उजियारपुर प्रखंड में 2 सितंबर 2019 को भाकपा(माले) का 5वां प्रखण्ड सम्मेलन आयोजित किया गया. सम्मेलन के मुख्य वक्ता भाकपा-माले के पोलित ब्यूरो सदस्य व मिथिलांचल प्रभारी धीरेन्द्र झा ने कहा कि मोदी के हाथों देश और देश के नौजवानों का भविष्य सुरक्षित नहीं है. आजादी के आन्दोलन में कम्युनिस्टों ने बड़ी भूमिका निभाई थी और आज एक बार फिर संविधान को बचाने की लड़ाई में कम्युनिस्टों को अगुआई करना होगा. भाकपा-माले आन्दोलन की पार्टी है और अब उसे गांव-पंचायतों में मजबूत संगठन बनाने की ओर बढ़ना होगा. सदन को अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय महासचिव का.

एआइपीएफ का जन कन्वेंशन

एआइपीएफ बैठक के बाद “बदलते भारत में संविधान और जन अधिकारों पर हमला – हमारा हस्तक्षेप और विकल्प” विषय पर जन कन्वेंशन हुआ. तीर्थराज सभागार में आयोजित इस जन कन्वेन्शन में पफोरम के विभिन्न राज्यों से आए प्रतिनिधियों के अलावा छत्तीसगढ़ के कई वरिष्ठ बुद्धिजीवियों, सामाजिक जन संगठनों, ट्रेड यूनियन प्रतिनिधियों और नागरिक समाज के वरिष्ठ जनों के अलावा भिलाई स्टील के मजदूर शामिल हुए.

दरौली (सीवान) में कैडर कन्वेंशन

21 अगस्त को सीवान जिले के दरौली में प्रखंड स्तरीय कैडर कन्वेंशन आयोजित हुआ. कनवेंशन को संबोधित करते हुए पार्टी के पोलित ब्यूरो सदस्य का. धीरेंद्र झा ने कहा कि विगत चुनाव में प्राप्त जनादेश का इस्तेमाल मोदी सरकार अपने विरोधियों को तंग-तबाह करने में कर रही है. साम्प्रदायिक फासीवाद देश, लोकतंत्र और आजादी के लिए बड़ा खतरा है. लोगों को घरों में कैद करके तथा धारा-144 और कर्फ्यू लगाकर किसी भी प्रदेश के भाग्य का फैसला करना अंग्रेजी सरकार की बर्बरता की याद दिला रही है.

एकजुट रहो, मुक़ाबला करो! हम कामयाब होंगे!

[ 30 जुलाई 2019 को नेताजी इनडोर स्टेडियम कोलकाता में हुए 'संगठित रहो, मुक़ाबला करो!' जन कन्वेशन में कॉ. दीपांकर भट्टाचार्य का उद्घाटन वक्तव्य ]

सम्मानित अतिथियों और साथियों,

आप सब का इस जन कन्वेशन में गर्मजोशी भरा स्वागत है. मैं भाकपा-माले की केंद्रीय कमेटी की ओर से इस जन कन्वेंशन में भागीदारी करने के लिए आपको सलाम पेश करता हूँ. यह कन्वेंशन 'संगठित रहो और मुक़ाबला करो!' की आज की ज़रूरत में हमें एक-दूसरे के साथ खड़ा करेगा.

भाकपा(माले) की 50वीं वर्षगाँठ और कमरेड चारु मजूमदार की जन्म शताब्दी के अवसर पर आयोजित जन कन्‍वेंशन में पारित प्रस्‍ताव

नेताजी इंडोर स्‍टेडियम, कोलकाता, 30 जुलाई 2019

एकताबद्ध हो! प्रतिरोध करो!

1.     एनआईए और यूएपीए कानून अपने मौजूदा रूप में ही बहुत खतरनाक हैं और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं व निर्दोष नागरिकों के खिलाफ इनका धड़ल्‍ले से दुरुपयोग किया जाता रहा है. भारत के सबसे कमजोर तबकों के अधिकारों की लड़ाई में भागीदारी करने वाले कार्यकर्ताओं और सरकार का विरोध करने वालों को इस कानून के तहत गिरफ्तार किया जा चुका है.